उत्पन्ना एकदशी

 उत्पन्ना एकदशी क्यूँ  है अति महत्त्वपूर्ण 

उत्पन्ना एकदशी को भगवान विष्णु और देवी एकदशी के सम्मान में, कार्तिक के हिंदू माह के कृष्ण पक्ष की एकदशी तिथी (ग्यारहवें दिन) पर, मनाया जाएगा| उत्तर भारत में, हालांकि, इस एकादशी को मार्गशिर्ष महीने के दौरान मनाया जाता हैं|
उत्पन्ना एकादशी सब एकादशियों में सबसे महत्वपूर्ण एकादशी मानी जाती हैं क्योंकि यह एकादशी उपवास की उत्पत्ति के साथ जुड़ी हुई हैं| सभी एकादशी उपवास, देवी एकादशी को समर्पित किए जाते हैं| देवी एकादशी भगवान विष्णु की शक्तियों में से एक हैं| इस शक्ति का जन्म तब हुआ था जब भगवान विष्णु की हत्या करने के लिए दानव मूर ने उनपर हमला किया| इसलिए देवी एकादशी भगवान विष्णु की रक्षा करने वाली शक्तियों में से एक हैं|

एक बार एक मुरा (मुरासुर) नाम का राक्षस रहता था, जिसने पृथ्वी और देवलोक पर हलचल मचा रखी थी और प्रत्येक जान को परेशान कर रखा था| दानव के इस अत्याचार को सहन करने में असमर्थ देवों ने भगवान शिव से मदद लेने का सोचा| भगवान शिव ने सभी देवों को सलाह दी की वह सब उनके बदले भगवान विष्णु से प्रार्थना करें|
भगवान विष्णु ने सभी के अनुरोध का ध्यान रखा और 10,000 साल तक दानव की सेना से युद्ध लड़ा| ऐसी मान्यता हैं की भगवान विष्णु, मुरासुर के अलावा उसकी सेना के हर राक्षस को मार चुके थे| जब और समय बाद तक वह मुरा को नही हरा पायें तभी भगवान विष्णु आराम करने के लिए हेमवती गुफाओं में गए। यह देख राक्षस ने मौके का फ़ायदा उठाने का सोचा और भगवान विष्णु को निंद्रावस्था में ही मारने का सोचा|
परंतु जैसे ही मुरा ने प्रभु को मारने के लिए अपने अस्त्र उठायें; तभी एक युवा लड़की भगवान विष्णु के शरीर से प्रकट हुई और उसने राक्षस को मार डाला। जब प्रभु अपनी नींद से जाग गए, उन्हें यह एहसास हुआ कि युवती ने राक्षस का वध कर दिया हैं| फिर भगवान विष्णु ने लड़की को वरदान माँगने के लिए कहा। युवती ने भगवान विष्णु को अपने भक्तों को आशीर्वाद देने में सक्षम होने के लिए शक्ति माँगी, जिन्होंने धर्म, धान्य और मोक्ष के साथ प्रभु के सम्मान में उपवास का पालन किया।
उसकी इच्छा को प्रभु ने पूर्ण किया और अब उस दिन को एकादशी के रूप में मनाया जाना जाता हैं क्योंकि वह एकादशी तिथि पर पैदा हुई थी। ऐसा माना जाता हैं कि जो कोई एकादशी तिथि पर उपवास करता हैं, वह मोक्ष से आशीषित होता हैं|


माना जाता हैं कि यदि एकदशी को अत्यंत समर्पण के साथ पूजा जाए, तो मनुष्य अपने हर पाप से मुक्त हो जाता हैं, और मृत्यु के बाद वह भगवान विष्णु के निवास में ले जाया जाता हैं| यह भी माना जाता हैं कि इस दिन उपवास करना यानी त्रिदेव - भगवान ब्रह्मा, भगवान विष्णु, और भगवान शिव के सम्मान में उपवासों के बराबर हैं|


टिप्पणियाँ