संदेश

लक्ष्मी कृपा के लिए कब , क्या करें ?

जाने क्या और कब करना है , लक्ष्मी कृपा के लिए 



लक्ष्मीजी की साधना के लिए  ऊन   का बना रक्तवर्णी या बहुरंगी आसन श्रेष्ठ माना जाता है |  वैसे तो सभी वार उत्तम हैं , लेकिन शुक्र या बृहस्पतिवार को विधिपूर्वक लक्ष्मी पूजा करने से अर्थाभाव नहीं रहता|  कमल का पुष्प लक्ष्मीजी को सर्वाधिक प्रिय है | कमल का पुष्प समृद्धि , श्री , सौभाग्य वृद्धि का प्रतिक मन जाता है | कमल का पुष्प भगवान् विष्णु को भी प्रिय है |  उपासको को चाहिए की लक्ष्मी कृपा प्राप्ति हेतु लाल चन्दन या मूंगे की माला पर लक्ष्मी जी का जाप करें |  माला जाप के समय साधक को पश्चिमाभिमुखी होकर बैठना चाहिए |  पश्चिमाभिमुख होकर भोजन करने से भी अर्थाभाव नहीं रहता | 

दिवाली को यह उपाय करें अर्थाभाव दूर करने के लिए :  नीचे  दिए मंत्र को दीपावली की रात्रि में १००८ बार जप करके , सर्वप्रथम मंत्र को सिद्ध करले | फिर मंत्र से १००८ बार घृत की आहुति देनी चाहिए | ऐसा करने से दरिद्रता दूर होती है 


लक्ष्मी मंत्र स्तुति
ॐ ऐं ह्रीं श्रीं श्रियै नमो भगवति मम समृद्धौ ज्वल ज्वल मां सर्वसम्पदं देहि देहि ममलक्ष्मीं नाशय नाशय हूं फट स्वाहा 

राशिनुसार लक्ष्मी…

उत्पन्ना एकदशी

Diwali Wishes Wallpaper and Quotes

Lord Ayyappa Wallpaper

Vastu Tips for Puja Room

माँ दुर्गा मंत्र एवं स्तुति

Nine forms of Devi and Navratri Festival Story

Gautam Buddha : गौतम बुद्ध के वचन