संदेश

BRIHASPATIVAR VRAT KATHA AND AARTI

बृहस्पति देव बृहस्पतिवार व्रत कथा बृहस्पतिवार व्रत माहात्म्य एवं विधि (Vidhi)
इस व्रत को करने से समस्त इच्छ‌एं पूर्ण होती है और वृहस्पति महाराज प्रसन्न होते है । धन, विघा, पुत्र तथा मनोवांछित फल की प्राप्ति होती है । परिवार में सुख तथा शांति रहती है । इसलिये यह व्रत सर्वश्रेष्ठ और अतिफलदायक है । इस व्रत में केले का पूजन ही करें । कथा और पूजन के समय मन, कर्म और वचन से शुद्घ होकर मनोकामना पूर्ति के लिये वृहस्पतिदेव से प्रार्थना करनी चाहिये । दिन में एक समय ही भोजन करें । भोजन चने की दाल आदि का करें, नमक न खा‌एं, पीले वस्त्र पहनें, पीले फलों का प्रयोग करें, पीले चंदन से पूजन करें । पूजन के बाद भगवान वृहस्पति की कथा सुननी चाहिये । वृहस्पतिहवार व्रत कथा (Vrat- Katha)
प्राचीन समय की बात है – एक बड़ा प्रतापी तथा दानी राजा था । वह प्रत्येक गुरुवार को व्रत रखता एवं पूजा करता था । यह उसकी रानी को अच्छा न लगता । न वह व्रत करती और न ही किसी को एक पैसा दान में देती । राजा को भी ऐसा करने से मना किया करती । एक समय की बात है कि राजा शिकार खेलने वन को चले ग‌ए । घर पर रानी और दासी थी । उस समय गुरु वृहस्पति साध…

उत्पन्ना एकदशी

Diwali Wishes Wallpaper and Quotes

Lord Ayyappa Wallpaper

Vastu Tips for Puja Room

लक्ष्मी कृपा के लिए कब , क्या करें ?

माँ दुर्गा मंत्र एवं स्तुति

Nine forms of Devi and Navratri Festival Story

Gautam Buddha : गौतम बुद्ध के वचन

भगवान गणेश जी के अनुपम चित्र | Hindu God Ganesha Wallpaper

Happy Ganesh Chaturthi Om Gan Ganapataye Namah

Hindu God Wallpaper madurai minakshi temple